नई दिल्ली। हिमाचल प्रदेश के सोलन स्थित कसौली में अवैध निर्माण तोड़ने पहुंची टाउन एंड कंट्री प्लानिंग की महिला अधिकारी शैल बाला की हत्या को सुप्रीम कोर्ट ने गंभीर मामला बताया है। बुधवार को इस मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने संज्ञान लेते हुए कहा कि किसी महिला अधिकारी की आरोपी ने दिनदहाड़े हत्या कर दी और भागने में कामयाब हो गया और पुलिस उसे पकड़ नहीं पाई यह बेहद गंभीर मामला है। इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने राज्य सरकार को इस मामले में रिपोर्ट देने के निर्देश दिए हैं। कोर्ट ने पर्याप्त सुरक्षा न देने और अभियुक्त के भाग जाने पर भी नाराजगी जताई।

बता दें कि मंगलवार को एक होटल मालिक विजय कुमार ने अवैध निर्माण तोड़ने पहुंची महिला अधिकारी को गोली मार दी थी। गोली मारने के बाद आरोपी जंगल में भाग गया, जिसे पुलिस पकड़ नहीं पाई। वहीं, अधिकारी की इलाज के दौरान मौत हो गई थी।

सुप्रीम कोर्ट का था आदेश –

करीब 15 दिन पहले सुप्रीम कोर्ट के आदेशों के बाद हिमाचल प्रदेश सरकार व जिला प्रशासन को होटलों के अवैध हिस्से को तोडने के आदेश हुए थे। इन्हीं आदेशों की पालना के लिए डीसी सोलन ने सोमवार को चार अलग-अलग टीमों का गठन कर अधिकारियों को इसकी जिम्मेदारी सौंपी।

मंगलवार को जैसे ही एक टीम कसौली के मांडोधार में नारायणी गेस्‍ट हाउस के भवन के पास पहुंची तो वहां नगर नियोजन अधिकारी कसौली शैल बाला व नारायणी गेस्‍ट हाउस के मालिक विजय ठाकुर के बीच कुछ कहासुनी हुई। इस कहासुनी में तैश में आकर होटल के मालिक ने महिला अधिकारी पर गोली चला दी । कहा जा रहा है कि गोली चलते ही महिला अधिकारी के साथ मौजूद पुलिसकर्मी वहां से भाग गए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here