गौरतलब है कि भारतीय सेना (Indian Army) के जवान अमित साहेबराव पाटिल की मौत दुर्घटना में हुई है इसलिए इन्हें शहीद कहा जाए या नहीं, इसको लेकर अभी तक एजेंसियों की तरफ से कुछ नहीं कहा गया है.

वाल्मीकि जोशी, जलगांव: महाराष्ट्र के जलगांव के रहने वाले सैनिक अमित साहेबराव पाटिल आखिरकार बुधवार को मौत से जंग हार गए. अमित जम्मू-कश्मीर में तैनात थे. 8 दिन पहले कश्मीर में बारिश के दौरान बर्फ का एक बड़ा गोला उनके ऊपर गिर गया, जिसके नीचे वो दब गए थे.

इस दुर्घटना में अमित गंभीर रूप से घायल हो गए थे. जिसके बाद इलाज के लिए उन्हें तुरंत अस्पताल में भर्ती करवाया गया. लेकिन वो बच नहीं पाए. बुधवार की सुबह फोन पर अमित के परिवार को उनकी मौत की खबर दी गई. अमित का घर महाराष्ट्र (Maharashtra) के जलगांव में चालीसगांव इलाके के वाकड़ी गांव में स्थित है.

गौरतलब है कि अमित की मौत दुर्घटना में हुई है इसलिए इन्हें शहीद कहा जाए या नहीं, इसको लेकर अभी तक एजेंसियों की तरफ से कुछ नहीं कहा गया है.

अमित साहेबराव पाटिल ने साल 2010 में भारतीय सेना (Indian Army) ज्वाइन की थी. वो एक किसान परिवार से आते हैं. अभी उनकी उम्र सिर्फ 32 साल ही थी. अमित के घर में माता-पिता के अलावा उनकी पत्नी और 3 साल का एक लड़का भी है.

अमित का पार्थिव शरीर बुधवार को देर रात या फिर गुरुवार को सुबह तक जलगांव पहुंचने की उम्मीद है. आज चालीसगांव के दूसरे सैनिक ने बलिदान दिया है. इससे पहले चालीसगांव के ही यश देशमुख शहीद हो गए थे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here