सतपुरवानी ब्यूरो भोपाल| मुख्यमंत्री माधवी स्टूडेंट ने निजी मेडिकल और डेंटल कॉलेज को सीधे उनके खाते मे पैसा देने की त्यारी हो रही है | प्रति स्टूडेंट यह पैसे 25 लाख रुपया है | हाल ही मे मुख्यमंत्री ने इस योजना की समेशा की , जिसमे मुख्य सचिव से लेकर दस अधिकरी मौजूद रहे |

इस समीक्ष की बैठक के मेनेट्स मे लिखा गया है कि निजी मेडिकल कॉलेज को जल्द से जल्द यह पैसे दिया जाएगा |
हैरानी की बात यह है की चार माह पहले 12 जून 2017 को मेधावी छात्र योजना की शर्त व प्रावधान तय किए थे | इसमे लिखा था की निजी मेडिकल ,डेंटल व अन्य कॉलेज मे यदि स्टूडेंट एडमिशन लेता है तो माधवी स्किम का पैसा छात्रों के खाते मे ही दिया जाएगा | इसी तहर जो छात्र या छात्राये शासकीय कॉलेज मे एडमिशन लेंगे , उसका पैसा संस्थ के खाते मे डाला जाएगा |

शहर  के  कई  इलाको  मे  भ्रमण   कर  रहे  है  टाइगर  से  सावधान

जियो ने काटी बीएसएनएल की केबल,दो दिन से चार हजार टेलीफोन बंद

सांसद सरकार ने पेट्रोल पर 3% और डीजल 5% vat कम किया

 साफ है की चार माह मे ही शर्त बदले की त्यारी की गयी |
250 से अधिक स्टूडेंट से माधवी योजना मे आवेदन दिया | जबकि टोटल आवेदन की संख्या २४ हज़ार से ज़्यादा रही |
चौकाने वाली बात यह है की पहेली प्रावधान किया था जो( भी बी ए स सी , बी.कॉम ,नर्सिंग ,पोलटेकिंक ) तथा स्नातक स्तर पर एडमिशन हुआ |

सीएम के साथ बैठक मे शामिल दस अधिकरी मे मुख्या सचिव के साथ ऊपर मुख्य सचव वितः , प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री , आयुक्त उच्च शिक्षा ,संचलय तकनीक शिक्षा विभग का तर्क है मेडिकल कॉलेज के खाते मे पैसा देना का प्रस्ताब मेडिकल शिक्ष विभाग का था | शिक्षा शामिल रहे उनका दवा है की इस शनिवार को छुट्टी के दिन काम करके लोटा दिया गया |

Tag’s: #medical college , #withdrawn , #government ,

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here