नई दिल्ली। सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ट्विटर ने पाकिस्तान डिफेंस(Pak Defense) के वेरिफाइड अकाउंट को किया सस्पेंड, इस हैंड द्वारा एक भारतीय लड़की की फर्जी तस्वीर के साथ भारत के खिलाफ प्रोपेगेंडा किया।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, कुछ दिनों पहले @defencepk के हैंडल से दिल्ली यूनिवर्सिटी में पढ रही भारतीय छात्रा कवलप्रीत कौर की फोटोशॉप्ड तस्वीर पोस्ट की गई थी। लड़की ने अपनी फोटो से छेड़छाड़ की शिकायत ट्विटर से करी , जिसके बाद ट्विटर ने यह कार्रवाई की।

लेकिन कुछ दिन पहले पाक डिफेंस ने फोटो हटा दी थी ,कि पाकिस्तान पहले भी झूठी तस्वीरों के जरिये भारत की शान खराब करने की कोशिश कर चुका है, सितंबर में भी दुनिया के सामने उसके झूठे होने की बात सामने आयी थी|

लड़की ने प्लेकार्ड पर यह लिखा था

– कवलप्रीत कौर ने भारत में गाय ले जाने वाले लोगों को पीट-पीटकर मार डालने की घटनाओं पर जून, 2017 में चले कैंपेन ‘नॉट इन माय नेम’ में हिस्सा लिया था।

– असली तस्वीर में प्लेकार्ड पर कवलप्रीत ने लिखा था, ‘मैं एक भारतीय नागरिक हूं, जो अपने धर्मनिरपेक्ष संविधान के साथ खड़ी हूं। मुस्लिमों को पीटकर मार डालने के खिलाफ लिखती रहूंगी।’

टीम से बाहर होने पर हार्दिक पांड्या ने कर दिया ऐसा ट्वीट

पीएम मोदी पहुंचे भावनगर, कहा- पूरे दक्षिण-पूर्व एशिया में अपनी तरह का पहला प्रोजेक्ट

दुनियाभर में क्रैश हुआ व्हाट्सएप, सोशल मीडिया में मची हलचल

– तस्वीर में लिखे मैसेज को छेड़छाड़ कर बदला गया और पाक डिफेंस ने इसे ट्विटर हैंडल पर पोस्ट किया। इसमें ऐसी लाइनें लिखी गईं, जो भारत के बारे में गलत मैसेज दे रही थीं

सितंबर 2017 में पाकिस्तानी राजदूत मलीहा लोधी ने भी यूएन असेंबली (UNGA) में एक फर्जी तस्वीर को कश्मीर का बताकर दुनिया को गुमराह किया था। तब वे यूएन में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की स्पीच का जवाब दे रही थीं। इस दौरान मलीहा ने गाजा के गृहयुद्ध में जख्मी हुई एक लड़की (राविया अबु जमा) की तस्वीर यूएन असेंबली में दिखाई थी। दरअसल, पाकिस्तान इसके जरिये जम्मू-कश्मीर में लोगों पर भारत के अत्याचार का दावा करने की कोशिश कर रहा था।

पाकिस्तान ने दिखाई थी गाजा वॉर विक्टिम की फोटो

– इसके कुछ ही घंटों में तस्वीर की सच्चाई दुनिया के सामने आ गई और पाकिस्तान की जमकर किरकिरी हुई। दरअसल, जिस तस्वीर को पाकिस्तान कश्मीरी लड़की के तौर पर पेश कर रहा था वो 2014 के इजरायली हवाई हमले में जख्मी राविया निकलीं।
– विवाद बढ़ने के बाद इस फोटो को खींचने वाली अमेरिकी फोटो जर्नलिस्ट हैदी लेविन भी सामने आई थीं। उन्होंने पाकिस्तान के दावों को दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया था।

दिल्ली की कवलप्रीत कौर ने बतया , “मैं डीयू से लॉ की स्टूडेंट हूं। मई में जामा मस्जिद के बाहर मॉब लिंचिंग के खिलाफ हुए प्रोटेस्ट में शामिल हुई थी। ये फोटो जुलाई में सोशल मीडिया पर पोस्ट किया था। फिर कुछ महीने पहले दोस्तों ने बताया कि तुम्हारी फोटो के साथ छेड़छाड़ कर इसे ट्विटर-फेसबुक पर गलत मैसेज के साथ फैलाया जा रहा है।”

Tag’s: #Pak Defense , #Tweeting Fake Photo , #Kawalpreet Kaur ,  #World News

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here