गैरतगंज। मात्र 1 हज़ार रु प्रति माह से जनपद क्षेत्र की ग्राम पंचायत सिंहपुर में सफाईकर्मी की नोकरी करने वाले संतोष कुमार अहिरवार को विगत दो माह से वेतन नही मिला है। दीवाली के त्योहार पर वेतन नही मिलने के कारण संतोष काफी हताश है। और ग्राम पंचायत के सचिव करन सिंह धाकड़ से अपना वेतन देने के लिए चक्कर लगा रहा है। पर सचिव द्वारा वेतन आहरण के बाद भी संतोष को वेतन नही दिया। सोमवार को जनपद पंचायत कार्यालय पहुंचे इस सफाई कर्मी ने हताश होकर बिलखते हुए आत्मदाह की धमकी दी।

हमेशा विवादों में घिरे रहने वाले सचिव करन सिंह धाकड़ ग्राम पंचायत सिंहपुर में पदस्थ होते ही फिर विवादों में घिर गए है। विवादों के कारण वही जो अन्य पंचायतों में कई गई। भ्रष्टाचार, राशि का गबन, हितग्राहियों की राशि का गबन। सचिव करन सिंह धाकड़ ने सिंगपुर पंचायत के सफाई कर्मी संतोष अहिरवार की मासिक मिलने वाले वेतन का आहरण कर खुद ने गबन कर लिया। जिसके बाद निर्धन संतोष सचिव से वेतन लेने के लिए 10 दिनों से चक्कर काट रहा है। वेतन मिलने की जगह सचिव ने संतोष के साथ अभद्रता पूर्ण व्यवहार किया। एवं वेतन नही देने की बात कही।

संतोष का कहना है कि सचिव करन सिंह धाकड़ धमकी देता है कि वह बड़े बड़े गबन करके जेल जा चुका है। उसका फिर भी कोई कुछ नही कर सका। और वह गृह तहसील में सचिव बनकर आ गया। सचिव के इस तरह के व्यवहार के बाद सफाई कर्मी संतोष ने दुःखी होकर जान देने की बात कही। बिलखते हुए उसने बताया कि वह गरीब तबके से है वेतन नही मिलने के कारण वह दीवाली का त्योहार नही मना पाएगा।

आश्चर्य का विषय है कि एक सचिव जनपद सहित जिलाधिकारियों के नाक के नीचे बड़े बड़े घोटाले कर रहा है। इसके बाबजूद सचिव करन सिंह पर कार्रवाई की जगह क्यो बचा लिया जाता है ये सोचनीय विषय है।।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here