चेन्नई। आईएनएक्स मीडिया मनी लॉन्ड्रिंग केस में बड़ी कार्रवाई करते हुए सीबीआई ने वरिष्ठ कांग्रेस नेता पी चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम को गिरफ्तार कर लिया है। यह गिरफ्तारी चेन्नई एयरपोर्ट से की गई है जिसके बाद टीम कार्ति को लेकर चेन्नई से दिल्ली रवाना हो चुकी है। गिरफ्तारी को लेकर सीबीआई ने तर्क दिया है कि कार्ति मामले की जांच में सहयोग नहीं कर रहे थे।

बता दें कि प्रवर्तन निदेशालय ने कार्ति चिदंबरम के खिलाफ पिछले साल मई में केस दर्ज किया था। आरोप था कि आईएनएक्स मीडिया में 2007 में 300 करोड़ के विदेशी निवेश के लिए विदेशी निवेश संवर्धन बोर्ड में धांधली हुई थी। इस दौरान पी चिदंबरम वित्तमंत्री थे।

बता दें कि कार्ति आज ही लंदन से वापस भारत लौटे हैं और उन्हें भारत लौटते ही गिरफ्तार कर लिया गया। 1 मार्च को ईडी ने उन्हें अपने समक्ष पेश होना का समन जारी किया है, जिसके चलते मद्रास हाईकोर्ट के फैसले के तहत उन्हें आज भारत लौटना था।

हम डरने वाले नहीं: कांग्रेस

कार्ति चिदंबरम की गिरफ्तारी को लेकर कांग्रेस ने सरकार पर हमला बोला है। कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने कहा, ‘पी चिदंबरम और उनके परिवार के साथ की जा रही प्रतिशोध की कार्रवाई से कांग्रेस डरने वाली नहीं है। हम सत्य को सामने लेकर आएंगे।’

कार्ति का CA भेजा गया जेल

इससे पहले 26 फरवरी को दिल्ली की एक अदालत ने कार्ति चिदंबरम के चार्टर्ड एकाउंटेंट (सीए) एस भास्कररमन को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया था। भास्कररमन को आइएनएक्स मीडिया से जुड़े धनशोधन मामले में गिरफ्तार किया गया था। विशेष न्यायाधीश एनके मल्होत्रा ने उनके सीए को तिहाड़ जेल भेजा। इससे पहले उन्हें प्रर्वतन निदेशालय (ईडी) की हिरासत से अदालत में पेश किया गया था। ईडी के विशेष लोक अभियोजक नीतेश राणा ने उनसे और तीन दिन की न्यायिक पूछताछ के लिए अनुमति मांगी थी। भास्कररमन को 16 फरवरी को दिल्ली के एक पांच सितारा होटल से गिरफ्तार किया गया था।

सुप्रीम कोर्ट से भी मिली निराशा

23 फरवरी को कार्ति को सुप्रीम कोर्ट से भी निराशा हाथ लगी थी। दरअसल, 1 मार्च को ईडी के समन के खिलाफ कार्ति ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था। हालांकि सर्वोच्च अदालत ने प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की ओर से कार्ति चिदंबरम को अपने समक्ष एक मार्च को पेश होने के समन को स्थगित करने से इन्कार कर दिया। साथ ही कहा कि वह इस विषय में संबंधित प्रशासन से अपील कर सकते हैं। मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा, जस्टिस अमिताव रॉय और डीवाइ चंद्रचूड़ की खंडपीठ ने शुक्रवार को कार्ति चिदंबरम की ओर से पेश वरिष्ठ वकील और कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल की दलीलें सुनने के बाद कहा कि मामले की सुनवाई छह मार्च को होगी।

कार्ति पर आरोप

साल 2007 के आइएनएक्स मीडिया मामले में कार्ति चिदंबरम को आरोपी माना गया है। उनका नाम आइएनएक्स मीडिया में कोषों को स्वीकार करने के लिए विदेशी निवेश संबर्धन बोर्ड की मंजूरी से जुड़े एक मामले में सामने आया। उस समय उनके पिता पी चिदंबरम केंद्रीय वित्त मंत्री थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here