कोहिमा। नगालैंड में विधानसभा चुनावों के बाद हो रही मतगणना जारी है। शुरुआती रुझानों में भाजपा और एनपीएफ के बीच कड़ी टक्कर नजर आ रही है। हालांकि, भाजपा ने अपनी बढ़त बना रखी है और रुझानों में बहुमत के करीब दिखाई दे रही है। वैसे धीरे-धीरे सत्ताधारी पार्टी एनपीएफ रेस में नजर आने लगी है। राज्य में अब तक आए 59 सीटों के रुझान में भाजपा 27 सीटों पर आगे है वहीं एनपीएफ 26 सीटों पर बढ़त बनाए हुए है। कांग्रेस यहां महज 1 सीट पर आगे चल रही है।

27 फरवरी को विधानसभा चुनाव के लिए हुई वोटिंग के बाद आज सुबह 8 बजे से वोटों की गिनती जारी है। शुरुआती मतगणना में भाजपा सबसे मजबूत पार्टी बनकर उभर रही है।

राज्य में 60 विधानसभा सीटें हैं लेकिन मतदान 59 सीटों पर हुआ था। इसके बाद आज तय होगा कि राज्य में पूर्व की सरकार ही रहती है या फिर नई सरकार बनेगी। मतदान के बाद आए एग्जिट पोल्स की माने तो इस बार राज्य में भाजपा मजबूती के साथ उभर सकती है।

विधानसभा चुनाव में 11 लाख मतदाताओं में से 75 प्रतिशत ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया। नगालैंड में फिलहाल एनडीए की सरकार है। नगालैंड में एनडीपीपी प्रमुख नेफियू रियो को उत्तरी अंगामी द्वितीय विधानसभा सीट से निर्विरोध निर्वाचित घोषित किया जा चुका है।

एक्जिट पोल की माने तो यहां भाजपा एक बड़ी ताकत के रूप में उभरेगी। चुनाव आयोग के अधिकारियों ने बताया कि मतगणना सुबह आठ बजे आरंभ होगी। नगालैंड में 27 फरवरी को वोट डाले गए थे।

एक्जिट पोल की बात करें तो नगालैंड में न्यूज एक्स के मुताबिक भाजपा-एनडीपीपी को 27-32 सीटों के साथ एनपीएफ के सामने चुनौती पेश करते हुए बताया गया है। इसे 20 से 25 सीटें मिलने की संभावना है। कांग्रेस को महज 0-2 सीटें मिलने की बात कही गई है। सी वोटर के अनुसार नगालैंड में इस बार कांग्रेस महज 0 से चार सीटों के बीच सिमटकर रह सकती है।

नगालैंड में इस बार चुनाव बेहद अस्थिर माहौल में हुआ है। कई संगठनों ने चुनाव का बहिष्कार किया था। इन सबके बीच किसी तरह 60 सीटों पर नामांकन हुआ। कांग्रेस तो सभी सीटों पर उम्मीदवार तक खड़ा नहीं कर पाई। बीजेपी की सहयोगी पार्टी एनपीपी में टूट हुई और भाजपा ने बागी गुट से अपना गठबंधन बना लिया। इस बार इन्हीं दो गुट के बीच सीधा मुकाबला है। इस राज्य का परिणाम सियासत से ज्यादा राज्य की शांति-व्यवस्था को भी प्रभावित करेगी। यहां विधानसभा चुनाव में नगा समझौता बड़ा मुद्दा बनकर सामने आया था। चुनाव के बाद समझौते से जुड़े मुद्दे और सामने आएंगे।

नगालैंड की सत्ता पर नगा पीपुल्स फ्रंट और भाजपा गठबंधन की साझा सरकार है। राज्य की सत्ता से कांग्रेस को 2003 में बेदखल करके नगा पीपुल्स फ्रंट ने यहां कब्जा किया था, उसके बाद से लगातार सत्ता में वो बनी हुई है।नगालैंड में कुल 60 विधानसभा सीटें हैं। 2013 के विधानसभा चुनाव में नगा पीपुल फ्रंट ने 45 सीटें जीती थीं।इसके अलावा 4 भाजपा और 11 सीटें अन्य के खाते में हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here