नई दिल्ली। राष्ट्रीय जांच एजेंसी ने पाकिस्तान के एक राजनयिक का नाम अपनी मोस्ट वांटेड लिस्ट में शामिल किया है। इस राजनयिक पर आरोप है कि वो भारतीय सेना और नौसेना पर दक्षिण भारत में 2014 में 26/11 जैसे आतंकी हमलों की साजिश करने वालों में शामिल था। साथ ही इन पर अमेरिका और इजरायल के दूतावासों पर 26/11 जैसे आतंकी हमले की साजिश रचने का आरोप है।

इस राजनयिक का नाम आमिर जुबैर सिद्दीकी है जो कि श्रीलंका में स्थित पाकिस्तान उच्चायोग में पदस्थ था। यह पहली बार हुआ है जब भारत ने किसी पाकिस्तानी राजनयिक का नाम मोस्ट वांटेड लिस्ट में शामिल किया है। आमिर के अलावा इस लिस्ट में दो अन्य पाकिस्तानियों के नाम भी हैं।

आमिर कोलंबो में पाक दूतावास में वीजा काउंसलर के तौर पर तैनात है। एनआईए के अनुसार श्रीलंका स्थित पाक उच्चायोग में पदस्थ है। जांच एजेंसी द्वारा इन्हें मोस्ट वांटेड लिस्ट में शामिल किए जाने के साथ ही इंटरपोल से भी इनके खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी करने की मांग की गई है। कहा जा रहा है कि इस राजनयिक को पाकिस्तान ने स्वदेश बुला लिया है।

खबरों के अनुसार एनआईए ने तीन अन्य पाकिस्तानी अफसरों की पहचान नहीं की है लेकिन उनमें से दो इस लिस्ट में शामिल हैं। इनमें से एक विनीत उपनाम बताता था हीं दूसरने ने अपना उपनाम बॉस उर्फ शाह बताया है। 2009-2016 के बीच कोलंबो में पोस्टिंग के दौरान आरोपी अफसरों ने दक्षिण भारत में चेन्नई और अन्य स्थानों पर मौजूद महत्वपूर्ण स्थानों पर हमले की साजिश रची थी।

उनकी साजिश तब नाकाम हो गई जब एनआईए ने श्रीलंकाई शख्स मुहम्मद साकिर हुसैन और अन्य को गिरफ्तार किया था। इन्हें सिद्दीकी ने हायर किया था। इन्हें हमले के लिए तय किए गए लक्ष्यों की तस्वीरें लेन, सेना की मूवमेंट की तस्वीरें और वीडियो लेने भेजा गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here