जबलपुर साइबर सेल में ऐसे भी पुलिसवाले भर्ती थे जो वास्तव में अपराधी हैं. चौंकानेवाले कांड में सामने आया है कि इस सेल के तीन पुलिसकर्मी अपहरण भी कर रहे थे, वसूली भी कर रहे थे. नोएडा पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया है.

 

जबलपुर. पुलिस से जुड़ा एक ऐसा मामला सामने आया है जिसे पढ़कर आपका सिर चकरा जाएगा. जबलपुर की स्टेट साइबर पुलिस नोएडा तो गई थी मुजरिमों को पकड़ने, लेकिन खुद ही मुजरिम गई. इस चौंकाने वाले मामले में जबलपुर की स्टेट साइबर सेल की टीम नोएडा पुलिस के हत्थे चढ़ गई है. आरोपी पुलिसवालों को सस्पेंड कर दिया गया है.

धोखाधड़ी के एक मामले में स्टेट साइबर टीम जबलपुर से सब इंस्पेक्टर राशिद खान, सब इंस्पेक्टर पंकज सिंह और आरक्षक आसिफ खान पिछले हफ्ते नोएडा पहुंचे थे. मामले में आरोपियों की तलाश चल ही रही थी कि मप्र पुलिस में अचानक हड़कंप मचाने वाली खबर आई. पता चला कि दोनों इंस्पेक्टरों और आरक्षक को नोएडा पुलिस द्वारा पकड़ लिया गया है.

पुलिसवालों ने की किडनैपिंग की कोशिश
जानकारी के मुताबिक, जब ये तीनों पुलिसवाले आरोपी सूर्यभान और शशिकांत को उनके नोएडा स्थित आवास से गिरफ्तार करने गई. इस बीच इन पुलिसवालों ने उनसे 4 लाख 70 हजार रुपये की डील कर उन्हें छोड़ने की बात कही. लेकिन वे नहीं माने इनकी आपस में झड़प शुरू हो गई. पुलिसवालों ने आरोपियों को किडनैप करने की कोशिश की, लेकिन वे उल्टा इन्हीं की पिस्टल लेकर भाग गए. इसके बाद साइबर सेल की इस आरोपी टीम ने नोएडा पुलिस में शिकायत दर्ज कराई.

पुलिस के सामने हुआ नया खुलासा

नोएडा पुलिस ने तुरंत एक्शन में आकर आरोपियों को पकड़कर पिस्टल भी बरामद कर ली. लेकिन, पूछताछ में कहानी उलट गई. आरोपियों ने मामले में नया खुलासा कर दिया. दरअसल जो टीम यहां से धोखाधड़ी के मुकदमे पर गिरफ्तारी करने गई थी वह उनसे अवैध वसूली करने लगी. नोएडा पुलिस का कहना है कि जांच के बाद आरोपी दोनों भाइयों के अलावा दो सब इंस्पेक्टर और आरक्षक सहित पांच को गिरफ्तार कर लिया गया है. फिलहाल तीनों को ही नोएडा सेक्टर 20 थाना पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. पूरे मामले की जांच की जा रही है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here