ten year old boy is smart than thief

 

भोपाल। बच्चों को चोर और अनजान व्यक्तियों के लिए घर का दरवाजा न खोलने और सावधान रहने की समझाइश हमेशा देना चाहिए ताकि समय पर काम आ सके। गुलमोहर स्थित आयकर कॉलोनी में के एक परिवार को बच्चे को यह समझाइश बड़े काम की साबित हुई है। शुक्रवार शाम साढ़े 6 बजे क रीब उनके घर में चोर घुस गया। तब घर पर उनका 10 वर्षीय बेटा अकेला था, एक बदमाश घर में घुस गया और चोरी करने लगा। बालक ने देखा तो तत्काल कमरा बंद कर पड़ोसियों और अपनी मां को बुला लाया। इसके बाद पुलिस को बुलवाकर उसे गिरफ्तार करवा दिया। बालक के साहस भरे काम को देखकर उसकी मां श्वेता और पड़ोसी चकित है। मां का कहना है कि बेटा तो बिल्ली से भी डर जाता था। मेरे द्वारा दी गई समझाइश आज काम आई। बेटे ने अपनी बहादुरी का परिचय देकर घर में चोरी होने से बचा ली।

जानकारी के अनुसार बी 7 आयकर कॉलोनी में बीएसएनल के कांट्रेक्टर वेद आशीष श्रीवास्तव पत्नी श्वेता (37), बेटे यशवर्धन उर्फ सागर (10) और बेटी पाकी (04) के साथ रहते हैं। यशवर्धन सेंट जोसेफ कान्वेंट स्कूल में 5वीं का छात्र है। जबकि पाकी एलकेजी में पड़ती है। श्वेता गृहणी है। टीआई जितेंद्र पटेल ने बताया लोगों की सूचना पर मौके पर पहुंचकर घर में घुसे बदमाश को पक़ड़ लिया है। उसकी पहचान रोहित नगर निवासी 29 वर्षीय संजय ठाकुर के रूप में हुई है। उसके आपराधिक रिकार्ड खंगाले जा रहे हैं।

मम्मी का पर्स चोरी कर छिपा रहा था, स्टापर लगाकर मैंने कमरा बंद कर दिया

शुक्रवार शाम साढ़े छह बजे मैं घर में अकेला था, मम्मी, पाकी कॉलोनी में आंटी के घर गई थी। पापा अपने काम से एमपी नगर में थे। तभी घर की घंटी बजी, मैंने दरवाजा के पास आकर देखा तो एक अंकल खड़े हुए थे। उन्होंने बोला बेटा पापा हैं मैंने कहा कि वह बाहर गए हैं तो उसने पापा का मोबाइल नंबर मांग। मुझे लगा पापा सुबह बोलकर गए थे कि सीसीटीवी लगाने वाला आएगा तो मैंने दरवाजा खोल दिया। तभी उसने मुझसे पानी मांगा, मैं पानी लेकर आया तो वह बैडरूम में खड़े हुए थे। मैंने पूछा आप अंदर कैसे आ गए तो वह बोले कि घर देखने आ गया था। उसके बाद अंकल ने दोबारा से पानी मांगा।

जब मैं पानी लेकर पहुंचा तो वे मम्मी का पर्स अपने कपड़ों में छिपा रहे थे। मैंने बोला अंकल आप तो चोरी कर रहे हो। इस पर वह बोले नहीं बेटा मैं तो पर्स देख रहा था। मैंने उनसे बोला अंकल आप घर से बाहर जाए तो उन्होंने मुझे कमरे में बंद करने की कोशिश की, लेकिन मैंने दरवाजे के नीचे लगा स्टापर लगाकर उनको कमरे में बंद कर दिया। इसके बाद मैं बाहर आया और पड़ोस में मम्मी को लेकर आ गया। वह भागने की कोशिश कर रहा था। तभी मम्मी और अंकल लोगों ने उसे पकड़ लिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here