भोपाल (Bhopal)। नेशनल लॉ इंस्टीट्यूट यूनिवर्सिटी(एनएलआईयू) में छात्रों ने डॉयरेक्टर एसएस सिंह पर छात्राओं पर गंदे कमेंट करने का आरोप लगाया है। डायरेक्टर को हटाने की मांग को लेकर छात्र-छात्राओं का दो दिनों से चल रहा प्रदर्शन शनिवार को उग्र हो गया। यूनिवर्सिटी में बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है। उधर इस मामले में डायरेक्टर सिंह का कहना है कि उनके खिलाफ लगाए गए सभी आरोप गलत हैं।

छात्रों ने यूजीसी के अध्यक्ष प्रोफेसर वीरेंद्र सिंह चौहान को भी एक शिकायत भेजी है, जिसमें बताया गया है कि डायरेक्टर छात्राओं को कमरे में बुलाकर भद्दी टिप्पणी करते हैं। शिकायत में परीक्षा में गड़बड़ी करने के आरोप भी लगाए गए हैं।

‘तुम जैसी ल़ड़कियां शर्म-इज्जत बेच कर आती हैं’

प्रदर्शनकारी छात्रों ने आरोप लगाया कि डायरेक्टर डॉ. सिंह ने हाल में एक छात्रा से भी दुर्व्यवहार किया। उन्होंने छात्रा के कपड़े देखकर कहा था कि ‘तुम जैसी लड़कियां अपनी शर्म-इज्जत बेचकर ऐसे कपड़े पहनकर आती हैं..आप जैसी लड़कियां बाद में पैसों के लिए बिक जाती हैं।’

छात्रों ने यह आरोप भी लगाया कि डॉ. सिंह ने एक छात्र पर जातिगत टिप्पणी भी की। छात्रों ने बताया कि एक छात्र पारिवारिक कारणों से घर गया था और उसका इयर बैक लग गया। जब छात्र अपनी अटेंडेंस के लिए अन्य छात्रों के साथ पहुंचा तो डायरेक्टर ने कहा कि आप तो जनरल केटेगिरी से हैं। एससी-एसटी वाले आपके अवसर समाप्त कर देते हैं।

सोशल मीडिया पर छेड़ा अभियान

छात्रों ने डायरेक्टर डॉयरेक्टर एसएस सिंह के खिलाफ सोशल मीडिया पर भी अभियान छेड़ दिया है। उन्होंने हैशटैग फ्री एनएलआईयू, हैशटेग पिंजरा तोड़ मुहिम सोशल मीडिया पर चला रखी है। इसी के साथ छात्रों ने कक्षाओं का भी बहिष्कार किया हुआ है। छात्रों ने बताया कि यहां यहां मेडिकल लीव देने में भी आनाकानी की जाती है। एक साथ चार छात्रों की तबीयत बिगड़ने पर ही एंबुलेंस दी जाती है।

सारे आरोप निराधार

मैंने किसी छात्रा से कुछ नहीं कहा है। सारे आरोप मनगढ़ंत और निराधार हैं। इनका सच्चाई से कोई लेना-देना नहीं है। छात्र गलत बोल रहे हैं। – डॉ.एसएस सिंह, डायरेक्टर, एनएलआईयू

director Passed wrong comments alleged, see what students of Bhopal did

Tags: #freeNLIU ,Bhopal news, Wrong comments , डॉयरेक्टर एसएस सिंह , NLIU university , protest ,student protest

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here