सतपुड़वाणी ब्यूरो,भोपाल : शिवराज सिंह चौहान(shvraj singh chouhan) ने इन बारह सालों में उन्होंने खूब मेहनत की। कई योजनाएं बनाई। कृषि, सिंचाई, सडक बिजली पानी शिक्षा पर उन्होंने खासा ध्यान केन्द्रित किया। उनकी कई योजनाएं गेम चेंजर भी रही, जिन्हें दूसरे राज्यों ने भी अपनाने में दिलचस्पी दिखाई। बढ़ते महिला अपराधों को लेकर वे बोले कि ऐसे नरपिशाचों के खिलाफ समाज में एक नैतिक अभियान चलाए जाने की जरुरत है। बारह साल पूरे करने पर नवदुनिया ने उनसे कई मुद्दों पर खुलकर बातचीत की और उनकी प्राथमिकताओं को जानने की कोशिश की |

” महिला अपराध और सुरक्षा “

अपने प्रदेश में मां-बहन और बेटियों को इज्जत की नजरों से देखा जाता है पर समाज में कुछ नर-पिशाच ऐसे भी पैदा हो गए हैं जिनके खिलाफ नैतिक अभियान चलाए जाने की जरूरत है। दुष्कर्म की 92 फीसदी घटनाओं में वे रिश्तेदार या परिचित ही आरोपी निकलते हैं जिनके पास भरोसा करके मां-पिता अपनी बेटी को छोड़ देते हैं। ये स्थिति भयावह है। इसके खिलाफ समाज में आंदोलन चलाए जाने की जरूरत है। ऐसे मामलों से निपटने में पुलिस और सरकार दोनों ही अपनी जिममेदारी निभाएंगे, लेकिन समाज को भी आगे आना होगा।

मुख्यमंत्री के तौर पर शिवराज सिंह चौहान बुधवार को बारह साल पूरे कर रहे हैं। मध्यप्रदेश गठन के बाद वे पहले ऐसे राजनेता हैं जो मुख्यमंत्री की कुर्सी पर सतत बारह साल तक बैठने का सौभाग्य हासिल कर रहे हैं।

” युवाओं को रोजगार देना हमारी प्राथमिकता “

युवा सशक्तिकरण मिशन बना रहे हैं। सरकारी नौकरियों की संख्या सीमित है इसलिए हम दो मोर्चों पर काम कर रहे हैं। पहला ,मार्केट की जरूरत के हिसाब से स्किल्ड मेनपॉवर तैयार करना। हर साल ऐसे साढ़े सात लाख युवाओं को रोजगार दिलाएंगे। दूसरा, साढ़े सात लाख युवाओं को स्वरोजगार से जोड़ेंगे।

गुरुग्राम के इस छात्र ने कर दिखाया कुछ ऐसा जिसने बदल दी ज़िंदगी ,

एक बिटकॉइन 10,000 डॉलर के पार पहुँचा।

पीटा को भढावा देने सनी और डैनियल ने किया समर्थन

” शक्ति के साथ हुई बर्बरता से फांसी का ख्याल मन में आया: सीएम “

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि भोपाल में शक्ति के साथ हुई दरिंदगी ने मुझे अंदर से हिला दिया। इंसान इतना बर्बर कैसे हो सकता है। ऐसे इंसान को जीने का हक नहीं। इसी घटना से ऐसे नर-पिशाचों के लिए फांसी देने का ख्याल मन में आया।

” बच्चों की आंखों के सपनों को मरने नहीं देंगे “

हाल के वर्षों में मुझे खुशी तब मिली, जब मैंने मुख्यमंत्री मेधावी विद्यार्थी योजना बनाई। बच्चों की आंखों के सपनों को हम मरने नहीं देंगे। पहले पढ़ाई की चिंता को लेकर बच्चों की चिठ्ठीयां मिला करती थीं। अब 75 फीसदी अंक लाओ, सरकारी प्राइवेट किसी भी कॉलेज की फीस सरकार भरेगी। अब ऐसे बच्चे मिलते हैं। गले से लिपटते हैं तो मन गदगद हो जाता है।

Tag’s : Women’s Crime and Security , give employment to the youth , Bhopal news , shvraj singh chouhan ,

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here