Dalit killedमक्सूदनगढ़ में एक और दलित की मौत यह कहना गलत नहीं होगा इन दिनों आए दिन दलितों के साथ मक्सूदनगढ़ क्षेत्र में हो रहे अत्याचार देखने को मिल रहे है ऐसे सा ही एक और ताजा मामला सामने आया है मक्सूदनगढ़ के बारूद गांव में उषा नाम की नाबालिक लड़की अपने ही घर में फांसी के फंदे पर झूलती हुई अपने परिजनों को मिली मृतक उषा के भाई ने बताया की मुझे जैसे ही जानकारी लगी तो में अपने घर के लिए दौड़ा और घर में जेसे ही पहुंचा तो घर के भीतर मेरी बहन फांसी के फंदे पर लटकी हुई मिली फिर मैंने पुलिस को फोन लगाया पर पुलिस नहीं पहुंची बहुत इंतजार करने के बाद मैंने ही अपनी बहन को फंदे से उतारा और मोटरसाइकिल पर उसका शव रखकर मक्सूदनगढ़ अस्पताल लेकर पहुंचा यह कोई पहला मामला नहीं है जो प्रशासन का दलितों की और ऐसा रवैया देखने को मक्सूदनगढ़ में मिला हो ऐसे पहले भी कई मामलो मक्सूदनगढ़ में सामने आ चुका है चाहे मुन्ना अहिरवार का मामला हो जिसने अस्पताल के गेट पर तड़प तड़प कर अपनी जान दे दी जिसको पुलिस मक्सूदनगढ़ अस्पताल के गेट पर ही छोड़ कर चली गई थी और भी ऐसे कई मामले हैं दलित परिवारों के जो कि इंसाफ के लिए आज भी दर दर की ठोकरें खाने को मजबूर है और उन गरीब दलितों को अधिकारियों द्वारा गुमराह कर दिया जाता है और वह इंसाफ के लिए गुना से मक्सूदनगढ़ मक्सूदनगढ़ से गुना के चक्कर काटते रहते है पर उन्हें इंसाफ नहीं मिल पाता ऐसा ही एक मामला है मक्सूदनगढ़ के तोरई गांव का भरोसा अहिरवार जिसकी जमीन पर दबंगों ने कब्जा कर रखा है और उसकी मक्सूदनगढ़ में सुनने के लिए कोई आला अधिकारी तैयार नहीं है भरोसा अहिरवार ने गुना कलेक्टर महोदय एस पी महोदय से अपनी समस्या के लिए गुहार लगाई तो जिले के अधिकारियों ने भी मक्सूदनगढ़ थाना प्रभारी को लिख कर दे चुके हैं पर आज भी समस्या का समाधान भरोसा हर बार का नहीं हुआ है जिसकी शिकायत जिले भर के अधिकारियों से भरोसा है हर बार कर चुका है हैरान कर देने वाली बात तो यह है कि जिला अधिकारियों के दवाब के बाद फिर मकसूदन थाना प्रभारी ने जमीन पर कब्जा कर रहे लोगों पर मामला दर्ज किया हरिजन एक्ट का भी मुकदमा दर्ज कर लिया पर उन आरोपियों का मक्सूदनगढ़ पुलिस ने आज तक चालान कोर्ट में पेश नहीं किया चालान कोर्ट में पेश करने के लिए आज भी भरोसा अहिरवार निवासी तोरई अधिकारियों कें हाथ पांव जोड़ रहा है पर ने पुलिस ने रोपियों का कोर्ट में चालान पेश नहीं किया सूत्र बताते हैं कि मक्सूदनगढ़ पुलिस ने 114 से भी ज्यादा केसों के चालान कोर्ट में पेश नहीं किए हैं यही कारण है कि इन केसों के आरोपी दूसरी घटनाओं को आज भी अंजाम दे रहे हैं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here