• ग्लूकोज के पैकेट में भी लाते थे एमडी
  • अग्रवाल और व्यास के नेटवर्क से जुड़े पांच आरोपियों की जगह-जगह तलाश

70 करोड़ की एमडी ड्रग्स इंदौर और एमपी के ही प्रमुख शहरों में खपाने की तैयारी थी। आरोपी ड्रग्स ग्लूकोज के पैकेट में भरकर भी लाते थे। वहीं ड्रग्स पकड़ने के लिए क्राइम ब्रांच ने रईस नाम के ऐसे तस्कर की मदद ली, जिसका पूरा परिवार शहर में कई सालों से ड्रग्स का अवैध धंधा करता है। आरोपी क्राइम ब्रांच के अधिकारियों के न सिर्फ संपर्क में है, बल्कि क्राइम ब्रांच थाने में बेखौफ आना-जाना भी है, जबकि इस आरोपी को विजय नगर पुलिस ने अपने यहां दर्ज एक केस में आरोपी बना रखा है और एसपी पूर्व ने इसे पकड़ने के लिए पांच हजार रुपए का इनाम भी घोषित कर रखा है। सूत्रों का कहना है कि आला अफसर क्राइम ब्रांच के एमटीएच थाने की रिकॉर्डिंग निकालें तो रईस के वहां आने जाने की पुष्टि भी हो जाएगी।

इंदौर में सागर जैन और आंटी से भी बड़े तस्कर हैं पांचों
शहर में युवाओं की रगों में कोकीन और एमडीएमए जैसे ड्रग्स का जहर घोलने वाले सागर जैन से भी बड़े तस्करों की पुलिस को जानकारी मिली है। ये वे तस्कर हैं, जिनके नाम हाल ही में गिरफ्तार पैडलर्स, आंटी और उससे जुड़े लोगों से पुलिस को पता चले हैं। इनमें से पांच आरोपियों को पकड़ने के लिए पुलिस ने इनाम घोषित किया है। इनमें सबसे बड़े ड्रग्स तस्कर रईस, फयाज, अदनान, जुनैद और नियाज की तलाश है। इसके अलावा आंटी के बेटे यश, पश्चिम क्षेत्र में सक्रिय गोल्डी, सागर के भाई कपिल के पीछे भी टीमें लगी हैं। पूर्व क्षेत्र के एसपी विजय खत्री ने बताया कि आरोपी यश जैन और तस्कर अदनान पर दस-दस हजार का, रईस और फयाज पर पांच-पांच हजार और मुंबई के जुनैद व नियाज पर दो-दो हजार का इनाम घोषित है।

हर आरोपी को पकड़ेंगे
रईस की क्राइम ब्रांच थाने में आने जाने की बातें गलत हैं। जो भी आरोपी बने हैं, उन्हें पकड़ने में थोड़ा देर सवेर होती है। ड्रग्स से जुड़े हर आरोपी को पकड़ा जा रहा है। इसे भी हम गिरफ्तार करेंगे।
-गुरु प्रसाद पाराशर, एएसपी, क्राइम ब्रांच

सभी टीमों में समन्वय
तस्करी के नए-नए तरीके इस्तेमाल होते हैं। ड्रग्स तस्करों तक पहुंचने के लिए छोटे आरोपियों का इस्तेमाल करते हैं। रईस आरोपी है उसे भी गिरफ्तार किया जाएगा। हमारी सभी टीमें मिलकर काम कर रही हैं।
-हरिनारायणाचारी मिश्र, आईजी, इंदौर

गरोठ भी पहुंची टीम
वेद प्रकाश की हैदराबाद की फार्मा कंपनी में जांच के लिए पहुंची क्राइम ब्रांच को ड्रग्स तैयार करने में इस्तेमाल होने वाला केमिकल मिला है। एक टीम टेंट कारोबारी के भतीजे चिमन का पता लगाने के लिए गरोठ भी पहुंची। हालांकि वहां कुछ नहीं मिला।

पनाह देने वाले भी बनेंगे आरोपी- आंटी के बैंक खाते में मिले 40 लाख से ज्यादा रुपए, लग्जरी कारों की किस्त दूसरों ने भरी
युवाओं को कोकीन व एमडी एमए का नशा देने वाली ड्रग्स वाली आंटी के बैंक खातों में 40 लाख से ज्यादा रुपयों की जानकारी मिली है। वह अपने बेटे यश के लिए जो लग्जरी कारें खरीदती थी, उसकी किस्त आंटी के खातों में अलग-अलग अकाउंट नंबर से आए रुपयों से भरी जा रही थीं। कुछ किस्तें जो कि एक से दो लाख तक की भरी गई हैं, उनके खातों की भी पुलिस जानकारी जुटा रही है। पुलिस को कुछ ऐसे लोगों की जानकारी मिली है, जिन्होंने फरारी में यश जैन की मदद की है, उन्हें भी पुलिस सह आरोपी बनाएगी। गौरतलब है कि ड्रग्स रैकेट में विजय नगर थाने की एसआईटी अब तक 30 आरोपी गिरफ्तार कर चुकी है। हालांकि पुलिस अब तक ड्रग्स वाली आंटी का पता नहीं लगा पाई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here