फेसबुक, इंस्टाग्राम हैक करके फोन पर फिरौती मांग रहा सायबर जालसाज

0
935
फेसबुक, इंस्टाग्राम हैक करके फोन पर फिरौती मांग रहा सायबर जालसाज
जानें कैसे आम लोगों पर भी साइबर क्राइम का कंस रहा शिकंजा

नई दिल्ली(नईदुनिया)| लोगों को एक दूसरे से जोड़ने वाला फेसबुक और इंस्टाग्राम अकाउंट का हैक होना तो आम बात है, मगर इसकी आड़ में फिरौती के लिए फोन घनघनाए, ये चौंकाने वाला है। मुंबई में ऑनलाइन गिफ्ट शॉप चलाने वाले भाई-बहन के साथ घटी वारदात ने सोशल साइट के जरिए होने वाली धोखाधड़ी को लेकर सोचने पर मजबूर कर दिया है।

मामला तीस अगस्त का है, जब लव एट फर्स्ट साइट नाम की ऑनलाइन शॉप चलाने वाली रुचिता और रीवा शीतलानी नाम के भाई-बहन को उस वक्त एक फोन कॉल आया, जब वो एक कॉफी शॉप में जा रहे थे। फोन करने वाले शख्स ने छूटते ही कहा कि वो सायबर क्राइम डिपार्टमेंट से बोल रहा है और उनके इंस्टाग्राम अकाउंट को लेकर लोगों की शिकायतें मिली हैं और इसके आधार पर अकाउंट एक दिन में हटा दिया जाएगा।

फोन करने वाले उन्हें कहा कि अगर वो अकाउंट सस्पेंड होने से बचाना चाहती हैं तो बिजनेस आईडी के बजाए अपना पर्सनल ई-मेल आईडी को इससे जोड़े।

इस फोन कॉल से दोनों घबरा गए और आनन-फानन में अपने ऑनलाइन गिफ्ट शॉप के इंस्टाग्राम अकाउंट को अपने पर्सनल ई-मेल आईडी से जोड़ दिया। इसके आधे घंटे में फोन करने वाले शख्स ने उनके इंस्टाग्राम अकाउंट की सारी जानकारियां बदल दी और नए तरीके के सायबर फ्रॉड का शिकार हो गए। जिस वक्त मुंबई में महिलाओं के लिए ऑनलाइन गिफ्ट शॉप चलाने वालों के पास ऐसा फोन कॉल आया, ठीक उसी वक्त वड़ोदरा में भी महिलाओं के कपड़ों का शोरूम चलाने वाले के शख्स के पास ऐसा ही फोन आया।

क्लोसेट नाम की क्लॉग शोरूम चलाने वाले शख्स के फेसबुक पर 1800 और इंस्टाग्राम पर 31 हजार से ज्यादा फोलोअर्स हैं। हालांकि वडो़दरा का शख्स खुशकिस्मत रहा और फेसबुक फ्रॉड से बच गया ,क्योंकि उसने तुरंत फोन क़ॉल काट दिया।

दरअसल इस तरह के फ्रॉड के मामले बढ़ गए हैं। जिसमें फेसबुक अकाउंट और एक ई-मेल आईडी और फोन नंबर से जोड़ा जाता है। इसके आधार पर सायबर जालसाज एक ओटीपी जनरेट करता है, जो अकाउंट होल्डर के पास फॉरगॉट पासवर्ड लिंक के जरिए पहुंचता है। इसके बाद जालसाज खुद को सायबर क्राइम सेंटर का अफसर बताकर फोन करता है और ओटीपी मांगता है। जैसे ही यूजर अपना पासवर्ड उसे बताता है, वो उसके अकाउंट की सारी जानकारी बदल देता है और पेज पर उसका कब्जा हो जाता है। फिर जालसाज उसे ठीक करने के नाम पर फिरौती की मांग करता है।

इस तरह के सायबर जालसाज पैसों के बदले फेसबुक पेज भी बेचते हैं और हर लाइक और फोलोअर बढ़ने पर पैसा वसूलते हैं। ऐसे में इस मामले में सायबर फ्रॉड की जांच करने वाली एजेंसियों के कान खड़े कर दिए हैं।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here